Sunday, June 10, 2012

krib dil ke

करीब दिल के आँखों से दूर हो गये,
वक्त का तकाजा था मजबूर हो गये।
करीब दिल के।....................
सोचा भी न था के ऐसा हो जायेगा,
आबाद गुलशन में वीराना आएगा,
इश्क में लगे जख्म नासूर हो गये।
करीब दिल के।............
बन गया है मेरे जीवन का हिस्सा,
इक बरबाद हुई जवानी का किस्सा
सारे शहर में सनम मशहूर हो गये।
करीब दिल के।.............
खता समझे  नासमझी या नादानी,
लाखों ने तबाह करदी है जिंदगानी,
भरी जवानी में चेहरे बेनूर हो गये।
करीब दिल के।............................"रैना"

2 comments: